पुण्य सम्राट श्री जयंतसेन सूरीवरजी मसा के 83वें जन्मोत्सव के उपलक्ष में ========================इन्हरव्हील क्लब मेन एवं रोटरी क्लब द्वारा निराश्रित बच्चों को वितरित किए ऊनी वस्त्र

0
35

झाबुआ से दौलत गाेलानी की रिपोर्ट

झाबुआ। राष्ट्रसंत एवं पुण्य सम्राट लोक संत आचार्य श्रीमद् विजय जयंतसेन सूरीवरजी मसा के 83वें जन्मोत्सव के शुभ अवसर पर इन्हरव्हील क्लब ‘मेन’ एवं रोटरी क्लब ‘मेन’ झाबुआ के माध्यम से इन्हरव्हील क्लब अध्यक्ष श्रीमती अंजु प्रमोद भंडारी द्वारा मंगलवार दोपहर 3.30 बजे स्थानीय ऑफिसर्स कॉलोनी स्थित निराश्रित बाल आश्रम में अध्ययनरत करीब 92 छात्र-छात्राओं को ऊनी वस्त्र (जरकीन) का वितरण किया गया।
आयोजित कार्यक्रम में अतिथि के रूप में जिला बाल कल्याण समिति के वरिष्ठ सदस्य यशवंत भंडारी, रोटरी क्लब ‘मेन’ के पूर्व अध्यक्ष एमएल गादिया, प्रदीप रूनवाल, प्रमोद भंडारी, वर्तमान सचिव हिमांशु त्रिवेदी, इन्हरव्हील क्लब की अध्यक्ष श्रीमती अंजु भंडारी, चेयरमेन श्रीमती अर्चना राठौर, महिला मंडल की सचिव एवं इन्हरव्हील क्लब सचिव श्रीमती अर्चना सिसौदिया उपस्थित थी। कार्यक्रम के प्रारंभ में पूज्य आचार्य श्रीजी का पुण्य स्मरण करते हुए ‘ओम मंत्र’ का मंत्रोच्चार किया गया। पश्चात् उपस्थित सभी बच्चों को इन्हरव्हील क्लब, रोटरी क्लब एवं महिला मंडल की सदस्यों द्वारा बच्चों को ऊनी वस्त्र पहनाए गए। जिसके बाद बच्चें अत्यधिक प्रसन्नचति दिखाई दिए एवं कर्तल ध्वनि कर अपना हर्ष जताया।
आचार्य श्रीजी की दिव्य प्रेरणा से यह कार्य हो पाया
इस अवसर पर जिला बाल कल्याण समिति के वरिष्ठ सदस्य यशवंत भंडारी ने उपस्थित बच्चों को बताया कि आज का दिन काफी शुभ और विशेष है। आज से 83 वर्ष पूर्व गुजरात के पेपराल ग्राम में आचार्य श्री जयंतसेन सूरीवरजी मसा का जन्म हुआ था। छोटी सी उम्र में आपने संयम पथ पर अग्रसर होकर अपना सारा जीवन प्राणी मात्र के कल्याण में समर्पित कर दिया था। आपने हमेा अपने िष्यों को यह उपदे दिया था कि हमे हर जरूरतमंद व्यक्ति की मद्द करना चाहिए, यहीं सबसे बड़ा धर्म है। आचार्य श्रीजी की इस आज्ञा को शिरोधार्य करते हुए आज इन्हरव्हील क्लब ‘मेन’ के माध्यम से इस निराश्रित आश्रम के सभी विद्यार्थियो को अंजु प्रमोद भंडारी परिवार की ओर से कड़कड़ाती ठंड से राहत के लिए यह सुंदर जरकीन प्रदान किए गए है।
दया और करूणा के सागर थे आचार्य श्रीजी…..
वरिष्ठ रोटेरियन एमएल गादिया ने इस अवसर पर आचार्य श्रीजी का पुण्य स्मरण करते हुए कहा कि वे इस युग के एक महानतम आचार्य रहे है तथा उनमें सदैव दया एवं करूणा की भावना व्याप्त थी। आपने बच्चां को अच्छी पढ़ाई कर योग्य नागरिक बनने हेतु प्रेरित किया। रोटेरियन प्रदीप रूनवाल ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि राष्ट्रसंत श्रीजी जैसे महान व्यक्ति ने इस धरा पर जन्म लेकर दे ही अपितु विदेों के भी लाखों गुरूभक्तों को धर्म मार्ग पर प्रास्त किया। साथ ही दया एवं करूणा भाव से प्रत्येक प्राणी की सेवा करने का सद्पोदे प्रदान किया।
इन्हरव्हील क्लब ‘मेन’ को दिया साधुवाद
महिला मंडल की ओर से वरिष्ठ सदस्य श्रीमती भारती सोनी ने राष्ट्रसंत श्रीजी को नमन एवं वंदन किया, पश्चात् कहा कि इन्हरव्हील क्लब ‘मेन’ आज सहीं अर्थों में राष्ट्रसंत श्रीजी का जन्मदिवस मना रहा है। महिला मंडल द्वारा संचालित यह निराश्रित बाल आश्रम आप सभी के सहयोग से ही सुव्यवस्थित रूप से संचालित हो रहा है। ठंड से राहत देने के लिए आपने जो बहुत ही सुंदर जरकीन भेंट किए है, इसके लिए आपको सभी को साधुवाद। इस अवसर पर इन्हरव्हील क्लब ‘मेन’ से जुड़ी कल्पना सकलेचा, रेखा राठौर, पुष्पा संघवी, सरिता बाबेल, राखी कर्नावट, समता कांठी, रोटरी क्लब ‘मेन’ के पदाधिकारी एवं महिला मंडल का स्टॉफ तथा बड़ी संख्या में बच्चें उपस्थित थे। अंत में आभार इन्हरव्हील क्लब सचिव श्रीमती अर्चना सिसौदिया ने माना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here