विधानसभा निर्वाचन मे की गई व्यवस्थाओ की कहानी, मतदाताओ की जुबानी

0
67

गुजरात एवं राजस्थान मे कर रहे थे मजदूरी, मतदान करने लौटे गांव
जिले से बाहर मजदूरी करने गये मजदूरो को मतदान के दिन 28 नवंबर 2018 को मतदान करने अपने विधानसभा क्षेत्र के बूथ पर आने के लिये प्रेरित करने हेतु एवं जिस संस्थान मे वे कार्यरत है, उनके मालिको से मजदूरो को संवैतनिक अवकाष दिये जाने के लिये चर्चा करने हेतु जिले से षासकीय सेवको के 11 दल अक्टूबर माह मे 16 एवं 22 अक्टूबर को रवाना किये गये थे। जिले से भेजे गये दलो ने मजदूरो एवं कंपनी संस्थान मालिको से संपर्क किया एवं मजदूरो से 28 नवंबर 2018 को मतदान करने के लिये आग्रह किया। परिणामस्वरूप मजदूरो ने लौटकर अपने मताधिकार का उपयोग किया। करडावद बडी के रहने वाले रमेष पिता हेमराज डामोर और उनकी पत्नी आजीविका के लिये रोजगार की तलाश मे कोटा मे मजदूरी कर रहे थे। वे वहां टेलीकॉम कंपनी के लिये खंती खोदते थे। मतदान करने के लिये बुधवार रात 12 बजे लौटे एवं अपना वोट डाला। रमेश व उनकी पत्नी ने बताया कि हमे पता नही था कि मतदान किस तारीख को होना है। जिले से राजस्थान पहुंचे कुछ अधिकारियो ने हमे बताया कि झाबुआ मे 28 नवंबर को मतदान होना है। आप भी अपने बूथ पर मतदान करने जरूर आना, हमने आपके मालिक से बात कर ली है। वे आपको उस दिन की मजदूरी भी बिना काम किये देंगे। तो हमने सोचा कि हमे भी वोट देना चाहिये। इसलिये हम लौट कर आये और मतदान कर के वापस जायेंगे। गुजरात से मतदान करने लौटे मतदाता श्री जामसिंह निवासी ग्राम सनोड एवं राकेष, कविता निवासी ग्राम चोरमांडली ने चर्चा के दौरान बताया कि हम लोग गुजरात मे मजदूरी करते है। हमे नही पता था कि 28 नवंबर को मतदान होना है। झाबुआ से कुछ अधिकारी हमारे पास पहुंचे और उन्होने हमे बताया कि झाबुआ मे 28 नवंबर को मतदान होना है। आप भी अपने बूथ पर मतदान करने जरूर आना, हमने आपके मालिक से बात कर ली है। वे आपको उस दिन की मजदूरी भी बिना काम किये देंगे। अधिकारियो द्वारा वोट डालने के लिये समझाने पर हम मतदान करने आये।

अमेरिका से दीपावली मनाने आये थे, वोट डालने के लिये रूके रूनवाल दंपति
गली-गली, मोहल्ले-मोहल्ले वीवीपेट मशीन के प्रदर्शन एवं वोट डालने की अपील का यह प्रभाव हुआ कि अमेरिका से दीवाली मनाने आये दंपति ने यही रूककर मतदान करने का निष्चय कर लिया। झाबुआ षहर के रूनवाल बाजार निवासी मोहित रूनवाल और उनकी पत्नी आकृति ने बताया कि उन्होने इस बार बस स्टैंड स्थित माध्यमिक विद्यालय मे बनाये गये बूथ पर मतदान किया। इससे पहले उन्हे कभी यह पता नही रहता था कि वोटिंग किस तारीख को होना है। इसलिये वे चाहते हुए भी मतदान नही कर पाते थे। इस बार स्वीप गतिविधि के तहत किये गये प्रचार प्रसार से वोट डालने की तारीख पता चली तो हमने भी वोट डालने का निष्चय किया। मोहित और आकृति दोनो अमेरिका के मिषीगन मे डॉव केमिकल्स मे जॉब करते है। मोहित बीई, एमबीई तो आकृति सीए, सीएफए है। वे अपनी सवा साल की बेटी मिषा को लेकर दीपावली मनाने के लिये झाबुआ मे पिता महिपाल रूनवाल के घर आये थे। मोहित और आकृति ने पहली बार झाबुआ मे वोट डाला। वे बताते है कि उन्हे अमेरिकी नागरिकता नही मिली है, जिसके चलते वहां वोट नही डाल पाते है। मोहित ने बताया कि वे 25 नवंबर को वापस अमेरिका लौटने वाले थे, किंतु वोटिंग की तारीख 28 नवंबर होने से वे मतदान करने के बाद ही झाबुआ से अमेरिका के लिये निकलेंगे।

ट्रायसिकल मिलने से लंबे समय से स्वास्थ्य खराब होने के बाद भी बुजुर्ग मतदाता ने किया मतदान
इस बार विधानसभा निर्वाचन के लिये सुमम्य मतदान हेतु दिव्यांग एवं बुजुर्गा के लिये निर्वाचन आयोग द्वारा एवं जिला प्रशासन द्वारा व्यवस्थाएं सुनिष्चित की गई थी। बूथ पर रैम्प बनवाये गये थे एवं वोटिंग मषीन तक पहुंचने के लिये दिव्यांगो एवं बुजुर्गो को व्हीलचेयर भी उपलब्ध करवाई गई थी। लक्ष्मीनगर मे रहने वाले भोलाशंकर श्रोत्रिय लंबे समय से अस्वस्थ है। उन्होने परिजन से मतदान कराने के लिये ले जाने को कहा। परिजन ने इनकार किया। लेकिन उन्होने मतदान करने की जिद पकड ली। उन्हे रातीतलाई स्थित मतदान केंद्र तक ले जाने के लिये प्रशासन द्वारा आवागमन सुविधा एवं व्हीलचेयर उपलब्ध करवाई गई, जिससे वे आसानी से अपने मताधिकार का उपयोग कर पाये। चर्चा के दौरान भोलाषंकर श्रोत्रिय ने बताया कि यदि शासन द्वारा आवागमन एवं व्हीलचेयर की सुविधा उपलब्ध नही करवाई जाती तो वे अपने मताधिकार का उपयोग नही कर पाते। विधानसभा क्षेत्र पेटलावद मे रहने वाले 104 वर्षीय भूरा तेजाजी को भी मतदान करने के लिये व्हीलचेयर उपलब्ध करवाई गई, उन्होने बताया कि पहली बार व्हीलचेयर मिलने पर मै आसानी से मतदान कर पाया एवं मुझे मतदान करने मे अधिक सुविधा मिली एवं लोकतंत्र के महापर्व मे मैने भी अपना सहयोग किया। उन्होने 104 वर्ष की उम्र मे अपने मताधिकार का उपयोग कर दूसरो को भी प्रोत्साहित किया कि मताधिकार का उपयोग करना सभी का अधिकार एवं कर्तव्य है। हुडा स्थित मतदान केंद्र पर दृष्टिहीन महिला जमुना पति चिंताराम कुम्हारे भी मतदान करने पहुंची। उन्होने सुगम्य पोर्टल पर सहयोगी के रूप मे अपनी देवरानी संध्या कुम्हारे का नाम प्रस्तावित किया था। निर्वाचन आयोग द्वारा उन्हे बूथ तक मतदान कराने के लिये ले जाने एवं मतदान करने हेतु देवरानी श्रीमती संध्या कुम्हारे को उनके साथ मतदान कक्ष मे जाने की अनुमति दी गई एवं उन्होने जेठानी की तरफ से मतदान किया। विधानसभा क्षेत्र पेटलावद मे रहने वाले दिव्यांग मतदाता धर्मेंद्र को अपने मतदान केन्द्र तक बीएलओ द्वारा व्हीलचेयर पर ले जाकर मतदान करवाया गया। धर्मेंद्र ने बताया कि षासन द्वारा दिव्यांगो के लिये दी गई सुविधाओ के कारण आज मै भी मतदान कर पाया।
:

मतदान दलो का रखा गया विशेष ध्यान, बूथ पर हुआ भव्य स्वागत
जिले मे नवाचार करते हुए इस बार हुए विधानसभा निर्वाचन 2018 हेतु विषेष व्यवस्थाऐ जिला प्रषासन द्वारा सुनिष्चित की गई। जिले के 973 मतदान केद्रो पर मतदान संपन्न कराने हेतु नियुक्त मतदान दलो को बूथ पर मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने के साथ ही स्वागत सत्कार की भी व्यवस्था की गई। मतदान दल के मतदान सामग्री लेकर बूथ पर पहुंचते ही उनका तिलक लगाकर एवं पुष्पहार पहनाकर भव्य स्वागत किया गया। पीठासीन अधिकारी श्री अनिल गुप्ता एवं पीठासीन अधिकारी श्री मनोज खाबिया ने बताया कि मतदान केंद्रो पर मतदान दल के पहुंचने पर ढोल ढमाको से अगवानी की गई। कुमकुम एवं चावल का तिलक लगाकर व पुष्पहार पहनाकर भव्य स्वागत किया गया। स्वागत हेतु बूथ पर रंगोली बनाई गई एवं दीप जलाये गये। प्रकाष व्यवस्था हेतु विद्युत सीरिज लगाई गई। मतदान दलो के लिये मतदान केंद्र पर चाय, नाष्ते एवं भोजन की व्यवस्था की गई। मतदान दलो को दाल पानिये, लड्डू, पूडी, सब्जी इत्यादि भोजन परोसा गया। साथ ही सोने के लिये उचित बिस्तर की व्यवस्था भी की गई। गरम पानी नहाने के लिये उपलब्ध कराया गया। मच्छरो को मारने के लिये अगरबत्ती भी प्रदान की गई। जिले मे मतदान पर्व को मनाने के लिये उत्सव जैसा माहौल बूथ पर बनाने के लिये बूथो को षादी के मंडप की तरह सजाया गया। बूथ पर रंग-बिरंगे गुब्बारे लगाये गये। मतदान केंद्र पर मतदाताओ के बैठने के लिये कुर्सिंयो की व्यवस्था भी की गई।

क्यूलेस मतदान हेतु मतदाताओ को दिये गये टोकन
विधानसभा निर्वाचन 2018 में मतदान केन्द्र पर बिना कतार के मतदान सुविधा उपलब्ध कराये जाने के उद्देश्य से क्यूलेस व्यवस्था हेतु जिला प्रषासन झाबुआ द्वारा गुलाबी एवं पीले रंग के टोकन छपवाये गये थे। महिलाओ को गुलाबी रंग के एवं पुरूषो को पीले रंग के टोकन देकर बारी का इंतजार करने हेतु कुर्सियो/खटिया/दरी पर बैठने का इंतजाम किया गया था। मतदान केंद्रो पर मतदान करने पहुंचे मतदाताओ ने मतदान के पूर्व टोकन प्राप्त कर अपनी बारी आने तक बैठकर प्रतीक्षा की। इस प्रकार मतदाता को कतार में लगने की आवश्यकता नहीं हुई। मतदान केंद्र पर मतदान करने आई श्रीमती अनिता रामावत निवासी आफिसर्स कॉलोनी झाबुआ ने बताया कि बूथ पर आने के बाद हमे क्यूलेस मतदान से लाइन मे नही लगना पडा। बैठने के लिये कुर्सियां थी। अपना टोकन नम्बर प्राप्त कर हमने मतदान केन्द्र पर लगाई गई कुर्सियो पर बैठकर अपनी बारी का इंतजार किया एवं अपनी बारी आने पर मतदान किया।
विधानसभा निर्वाचन के लिये बस स्टाफ ने किया डाकमत पत्र से मतदान
हर बार वाहन चालक, कंडेक्टर एवं क्लीनर वाहनो के चुनाव कार्य के लिये अधिग्रहण हो जाने से अपने मताधिकार से वंचित रह जाते थे। इस बार वाहनो पर कार्यरत ड्रायवर, कंडेक्टर एवं क्लीनर भी अपने मताधिकार का प्रयोग कर पाये, इसलिये जिला प्रषासन द्वारा उन्हे डाक मतपत्र उपलब्ध करवाने की पहल की गई ताकि वे अपने मताधिकार का उपयोग कर पायें। परिचालक यूनियन संघ के अध्यक्ष श्री सैयद सोनू अली निवासी मारूति नगर झाबुआ ने चर्चा के दौरान बताया कि इस बार विधानसभा निर्वाचन मे वाहनो पर कार्यरत सभी कर्मचारियो को डाक मतपत्र की सुविधा दी गई, जिससे सभी कर्मचारियो ने अपने मताधिकार का उपयोग किया। उन्होने बताया कि इस बार चुनाव मे लगे वाहनो मे कार्यरत कर्मचारियो को भी सभी आवष्यक मूलभूत सुविधाएं षासन द्वारा निःशुल्क दी गई। सोने के लिये बिस्तर, समय पर भोजन एवं नाश्ता भी षासन द्वारा निःशुल्क उपलब्ध करवाया गया। इसके लिये श्री सोनू अली ने षासन एवं जिला कलेक्टर श्री आषीष सक्सेना का बहुत-बहुत आभार व्यक्त किया एवं इन व्यवस्थाओ की सराहना करते हुए कहा कि इस विधानसभा निर्वाचन मे दी गई सुविधाएं प्रशंसनीय है।

आदर्श मतदान केंद्र
मतदान केंद्र पर आये मतदाता हेमेंद्र व्यास ने कहा ऐसा लग रहा है, जैसे मै षादी समारोह मे आया हूं
जिले मे बनाये गये आदर्ष मतदान केंद्र भी इस चुनाव मे आकर्षण का केंद्र रहे। मतदान केंद्रो पर उत्सव जैसा माहौल बनाने के लिये बूथो को षादी के मंडप की तरह सजाया गया। बूथ पर रंग-बिरंगे गुब्बारे लगाये गये। मतदान केंद्र पर मतदाताओ के बैठने के लिये वीआईपी कुर्सिंयो की व्यवस्था भी की गई। आदर्ष मतदान केंद्र पर अपने मताधिकार का उपयोग करने आये मतदाता हेमेंद्र व्यास एंव पुष्पक समीर ने कहा कि हमने कई बार मतदान किया है, इस बार जो व्यवस्थाएं चुनाव आयोग ने की है एवं जिला प्रषासन द्वारा जो व्यवस्थाएं की गई है, वे सराहनीय है। हम जिस केंद्र पर मतदान करने आये है, वहां पर वीआईपी कुर्सियां लगाई गई हैं। रंग-बिरंगे गुब्बारे लगाये गये है। पूरा बूथ षादी के मंडप की तरह सजाया गया है। ऐसा लग रहा है, मानो हम किसी षादी समारोह मे आये हो। जिस तरह की व्यवस्थाएं आदर्ष मतदान केंद्र पर की गई है, ऐसी व्यवस्थाएं तो हमारी षादी के समय भी नही की गई थी।
बीएलओ ने सभी मतदाताओ को प्रदान की वोटर स्लिप एवं वोटर गाईड
विधानसभा निर्वाचन 2018 के लिये स्वीप योजना के तहत जिले मे इस बार मतदाता पर्ची एवं मतदाता मार्गदर्षिका का वितरण करवाने हेतु बूथ लेवल अवेयरनेस गु्रप (बीएजी) का गठन किया गया था, जिसमे आषा, ए.एन.एम., पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, स्व सहायता समूह के रसोइया आदि को षामिल किया गया, जिन्होने जिले मे बीएलओ का सहयोग करते हुए मतदाताओ को वोटर स्लिप एवं वोटर गाईड का वितरण किया। मतदाता श्री षांतिलाल पंवार निवासी एमजी रोड रानापुर, बालू पिता कल्लू भूरिया निवासी ग्राम दौतड, झूमाबाई पति बहादुर निवासी सालरपाडा ने बताया कि हमारे घर आंगनवाडी कार्यकर्ता एवं बीएलओ पर्ची लेकर आए और हमे बताया कि 28 नवंबर को आपको आपके इस बूथ क्रमांक पर मतदान करना है। इससे हमे वोट डालने मे आसानी हुई। मतदाता पर्ची बूथ के अंदर कार्यरत अधिकारी को दी तो मतदाता सूची मे हमारा नाम भी आसानी से मिल गया। और हम जल्दी एवं आसानी से मतदान कर पाये।

फलिया नू जात्रा
फलिये-फलिये के मतदाताओ ने जाना कैसे दे अपना वोट
झाबुआ जिले की झितरी हुई बसाहट की चुनौती को देखते हुए जिले में कलेक्टर श्री आषीष सक्सेना ने अभिनव पहल करते हुए हर मतदाता तक पहुंचने के उद्देष्य से मतदाता जागरूकता हेतु फलिया नु जात्रा के माध्यम से मतदाताओ को ईवीएम और वीवीपैट मषीन से वोट डालने की प्रक्रिया से परिचित करवाया। इसके लिए प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र हेतु 4-4 वाहनों को मतदाता जागरूकता के नारो से सुसज्जित कर ईवीएम एवं वीवीपेट मषीन के साथ भ्रमण करवाया गया। ईव्हीएम एवं व्हीव्हीपीएटी मशीन का प्रदर्शन किया कर मतदाताओ को जागरूक कर मतदान प्रक्रिया को बताया गया मतदाताओं को ईव्हीएम मशीन में बटन दबवाकर, ईवीएम एवं व्हीव्हीपीएटी मशीन की कार्यप्रणाली को प्रैक्टिकली बताया गया। जिससे मशीन के प्रति मतदाताओं की शंकाओ का समाधान हुआ एवं दूसरी ओर मतदान के प्रति जागरूकता बढने से जिले का मतदान प्रतिषत प्रदेष मे प्रथम स्थान पर रहा।
मतदाता श्रीमती रमिला पति केहरसिंह निवासी ग्राम रामपुरा वार्ड क्रमांक 15 ने बताया कि हमारे फलिये मे ईवीएम एवं वीवीपैट मषीन आई थी, जिसमे सभी को मषीन से वोट डालने की प्रक्रिया बताई गई थी, इससे हम बिना डरे मशीन से वोट डाल पाये और वीवीपैट मषीन मे यह भी देख पाये कि हमने जिस प्रत्याषी को वोट डाला है, हमारा वोट उसी प्रत्याषी को गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here