0
11
झाबुआ: निर्माण कार्य पूरा होने के बाद खाली पड़ी है करोड़ों की लागत से बनी इमारत, विभाग को नहीं हुई हैंड ओवर

झाबुआ। सरकार के तकनीकी शिक्षा विभाग ने तीन आईटीआई सह छात्रावास भवन के लिए करोड़ों की धनराशि जिले के लिए स्वीकृत की थी. जिसका काम जनवरी 2018 तक पूरा होना था. लेकिन अभी तक अधूरे काम होने के चलते आईटीआई को अभी तक हैंड ओवर नहीं की है. जिसके चलते अभी भी इसका लाभ जिले के विद्यार्थियों को नहीं मिल रहा है. मेघनगर, थांदला और रामा में प्रस्तावित आईटीआई के लिये विभाग द्वारा स्टाफ की नियुक्तियां भी नहीं की गई हैं.

दरअसल, लोक निर्माण विभाग की परियोजना क्रियान्वयन इकाई ने 23 जुलाई 2016 को निविदाकर्ता कंपनी को कार्य आदेश दिया था, जिसका काम आज भी अधूरा है. 9 करोड़ 85 लाख 21 हजार की प्रशासकीय स्वीकृति वाली मेघनगर आईटीआई भवन का उद्घाटन 15 अगस्त 2018 को बीजेपी सरकार के मंत्री विश्वास सारंग के हाथों कराया गया किंतु उद्घाटन के 7 माह बाद भी आईटीआई भवन तकनीकी शिक्षा विभाग को हैंड ओवर नहीं हुई. आईटीआई की बिल्डिंग ना मिलने के कारण प्रस्तावित 6 ट्रैड का संचालन यहां नहीं हो रहा है.

जहां मेघनगर की आईटीआई एकलव्य आदर्श आवासीय स्कूल अगराल गांव से संचालित हो रही है वहीं रामा की आईटीआई पुरानी कन्या छात्रावास भवन में, थांदला की आईटीआई बीआरसी भवन में संचालित की जा रही है. मेघनगर की तरह रामा में भी यही स्थिति है. यहां भी करोड़ों की बिल्डिंग बन चुकी है मगर बिजली-पानी की व्यवस्था ना होने के कारण यह बिल्डिंग अभी आईटीआई को हैंड ओवर नहीं हो पाई है. दिसम्बर 2017 में जिन बिल्डिंगों को बन जाना था वह 2019 में भी अधूरी दिखाई दे रही है, जिसके चलते जिले के सैकड़ों छात्रों को प्रशिक्षण से वंचित रहना पड़ रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here