17 वर्षीय बालक हुआ अपहरण का षिकार, मोबाईल से मांगी रहीं 20 लाख रू. की फिरोती-नहीं तो दी जा रहीं जान से मारने की धमकी

0
26

पुलिस जुटी हुई घटना की जांच में

झाबुआ। स्थानीय टीचर्स कॉलोनी निवासी एक 17 वर्षीय बालक का बीती 8 फरवरी, शुक्रवार रात्रि अपहरण हो गया। बालक अपने घर से शादी में जाने का कहकर निकला था और वापस नहीं लौटा। रातभर नहीं लौटने पर परिजनों ने तलाष आरंभ की और अगले दिन शाम पुलिस थाना झाबुआ पहुंचकर गुमषुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई। इस बीच बालक के माता-पिता को उसके मोबाईल नंबर से 20 लाख रू. की फिरोती की मांग के लगातार फोन आ रहे है एवं कहा जा रहा है कि यदि अपहरण की सूचना पुलिस को या अन्य किसी को दी, तो वह उनके पुत्र को जान से मार देंगे। घटना के बाद जहां परिवारजन अत्यधिक भयभीत है वहीं पुलिस संपूर्ण घटनाक्रम की जांच में जुट गई है।
पूरी घटना की जानकारी देते हुए कलपेश सोलंकी ने बताया कि टीचर्स कॉलोनी निवासी नरेश सोलंकी, जिनके पिता सब्जी का व्यवसाय करते है। नरेश सोलंकी बीती 8 फरवरी, शुक्रवार रात्रि करीब 10 बजे अपने माता-पिता को यह कहकर घर से निकला कि वह शादी में जा रहा है। इसके लिए वह नए कपड़े पहनकर मोटरसाईकिल लेकर, जो बताया जाता है कि पिछले कुछ महीनों पूर्व ही परिवारजनों द्वारा खरीदी गई थी एवं मोबाईल लेकर घर से निकला, जिसके बाद वापस घर नही आया। रातभर परिवारजन उसके आने का इंतजार करते रहे, लेकिन नरेष घर नहीं लौटा। जिसके बाद परिवारजनों की चिंता बढ़ने लगी और उन्हें अपने अन्य रिशतदारों को सूचना देते हुए उसकी तलाष शुरू की, लेकिन नरेष का कुछ पता नहीं चल सका। 13 फरवरी शनिवार शाम परिवारजनों ने पुलिस थाने पहुंचकर घटना की जानकारी देते हुए बालक की गुमुषुदगी दर्ज करवाई।
20 लाख की फिरोती के लिए आया फोन
कलपेष सोलंकी के अनुसार इस बीच नरेष के माता-पिता को उसके ही मोबाईल नंबर से फोन आया कि उनके पुत्र का अपहरण कर लिया गया है और उसे छोड़ने के लिए 20 लाख रू. की मांग की। साथ ही धमकी देते हुए यह कहा कि यदि परिवारजनों ने इसकी जानकारी पुलिस या अन्य किसी को दी, वह उनके बेटे को जान से मार देंगे। जिसके बाद परिवारजनों अत्यधिक भयभीत एवं चितिंत है एवं लगातार पुलिस से उनके बेटे की जल्द ही तलाष की गुहार लगाने के साथ स्वयं तथा रिष्तेदारों द्वारा भी बालक की तेज गति से खोजबीन की जा रहीं है।
रानापुर रोड़ पर सीसीटीव्ही कैमरे में दिखा नरेष
घटना में पुलिस थाने पर अपराध पंजीबद्ध होने के बाद पुलिस ने बालक की खोनबीन शुरू की। कंट्रोल रूम में शहर के मुख्य जगहों की सीसीटीव्ही फुटेजों को खंगाला गया। तभी इसी बीच नरेष सोलंकी रानापुर रोड पर मोटरसाईकिल पर मोबाईल से बात करता जाता हुआ दिखाई दिया। जिसके बाद पुलिस द्वारा उक्त स्थान पर पहुंचकर आसपास के दुकानदारों एवं रहवासियों से भी चर्चा की गई।
5-6 युवकों को किया गिरफतार
पुलिस ने अपनी जांच के क्रम में ही नरेष सोलंकी के साथ घूमने वाले एवं उनके दोस्तों को भी कॉल डिटेल्स के आधार पर पकड़ा और उन्हें पुलिस थाने लाकर लगातार उनसे पूछताछ की जा रहीं है। यह युवक शहर में अलग-अलग क्षेत्रों में रहने वाले है, लेकिन बताया जाता है कि पुलिस को इनसे अब तक कोई सुराग नहीं मिल पाया है।
कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक को दिया आवेदन
इस बीच 12 फरवरी, मंगलवार को दोपहर बालक के पिता एवं अन्य रिष्तेदार पुलिस थाने पहुंचे और थाना प्रभारी से चर्चा कर कार्रवाई की स्थिति जानी। बाद सभी द्वारा कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक को आवेदन देकर उनके बालक का अतिषीध्र पता लगाए जाने की मांग की। आष्चर्यजनक है कि घटना के 4 दिन बीत जाने के बाद भी नरेश सोलंकी का कोई पता नहीं लग पाया है। उधर लगातार परिवारजनों को नरेश के मोबाईल से फिरोती के लिए एवं धमकी भरे कॉल आना जारी है। नरेश के चचेरे भाई कलपेश सोलंकी ने अपना मोबाईल नंबर 62645-78050 देते हुए सभी से अनुरोध किया है कि जिस किसी व्यक्ति को भी नरेश का पता लगे तो वह उनके मोबाईल नंबर पर सूचना दे सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here