असंगठित श्रमिक अपना पंजीयन कराएं उन्हें मिलेंगे बहुत से लाभ

0
8

झाबुआ
प्रदेश सरकार ने मध्यप्रदेश असंगठित शहरी व ग्रामीण कर्मकार कल्याण मंडल गठित किया है जिसके माध्यम से असंगठित मजदूरों का पंजीयन कर उन्हें अनेकों तरह के  लाभ दिलाए जाएंगे कलेक्टर श्री आशीष सक्सेना ने बताया कि असंगठित मजदूरों के पंजीयन के लिए विशेष अभियान प्रारंभ किया जा रहा है और संगठन श्रमिकों के लिए पंजीयन के लिए  1 अप्रैल से 7 तक ग्राम पंचायत तथा नगरीय क्षेत्र वार्ड वार पंजीयन शिविर लगाया जाएंगे तथा अधिक से अधिक श्रमिकों का पंजीयन किया

कौन करा सकता है पंजीयन
पंजीयन के लिए श्रमिक की आयु 18 से 60वर्ष के बीच होना चाहिए आवेदक असंगठित श्रमिक श्रेणी में कार्यरत हो आयकरदाता ना हो तथा संबंधित आवेदक श्रमिक के पास 2 हेक्टेयर से ज्यादा भूमि नहीं होना चाहिए पंजीयन के लिए निर्धारित प्रारूप में आवेदन सूचना पत्र के साथ समग्र ID क्रमांक पासपोर्ट साइज फोटो लगाना होगा पंजीयन प्रक्रिया पूर्णता निशुल्क रहेगी एक बार किया गया 5 वर्ष तक  वैध रहेगा

असंगठित श्रमिकों को मिलेंगे सुविधाएं
पंजीबद्ध असंगठित मजदूरों को ₹200 मासिक फ्लैट रेट पर बिजली उपलब्ध कराई जाएगी गर्भवती श्रमिक महिलाओं को पोषण आहार के लिए ₹4000 दिए जाएंगे प्रसव होने पर महिला के खाते में ₹12500 जमा किए जाएंगे घर के मुखिया श्रमिक की सामान्य मृत्यु पर परिवार को ₹200000 तथा दुर्घटना को ₹400000 की सहायता हर भूमिहीन श्रमिक को भूखंड या मकान स्वरोजगार के लिए भी दिलाया जाएगा साइकिल चलाने वालों को लोडिंग रिक्शा का मालिक बनाने के लिए 5% ब्याज अनुदान की सब्सिडी दी जाएगी और अंतिम संस्कार के लिए ₹5000 की सहायता दी जाएगी इसके अलावा तोड़ने वालों को चरण पादुका योजना के तहत जूते चप्पल दिलाई जाएगी उसके परिवार के सदस्यों को गंभीर बीमारी के बच्चों को निशुल्क शिक्षा जाएगी मजदूर खरीदने के लिए ₹5000 का नगद भुगतान अनुदान दिया जाएगा मजदूरों को मकान  बनाने के लिए जमीन का पट्टा दिया जाएगा

असंगठित श्रमिक के रूप में कचरा ओपन नहीं बनने वाले भी करा सकते हैं पंजीयन

असंगठित श्रमिकों में कचरा और पन्नी बीनने वाले कृषि कार्य में लगे मजदूर घरेलू कामकाजी मजदूर फेरी लगाकर दूध बेचने वाले तेल लगा कर रख दिया कबाड़ी का सामान खरीदने वाले मत्स्य पालक मजदूर पत्र उत्तर तोड़ने वाले ईट बनाने वाले मजदूरों पर काम करने वाले पौधों में कार्य करने वाले परिवहन हथकरघा पावर लूम रंगाई छपाई सिलाई अगरबत्ती बनाने वाले जूते बनाने वाले ऑटो रिक्शा चालक का तेल दाल मिल में काम करने वाले मजदूर लकड़ी का काम करने वाले बर्तन बनाने वाले कारीगर लोहार बढ़ई आतिशबाजी उद्योग में लगे सभी मजदूरों को कम किया जा सकता है इसके अलावा प्राइवेट सुरक्षा में लगे कर्मचारियों को कारपेट बनाने वाले आतिशबाजियों माचिस बनाने वाले सभी मजदूरों पर शिव मंदिरों में हल करने वाले तू लेकर आने वाले बोलने वाले कम किया जा सकता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here