झाड़ू से जुड़ी परंपराएं- महालक्ष्मी कृपा के लिए 3 झाड़ू किसी मंदिर में रख आएं

0
22

उज्जैन। झाड़ू वैसे तो बहुत सामान्य वस्तु है, लेकिन शास्त्रों में इसका सीधा संबंध महालक्ष्मी की कृपा से बताया गया है। झाड़ू हमारे घर से गंदगी रूपी दरिद्रता को दूर करती है और साफ-सफाई के रूप में महालक्ष्मी की कृपा दिलवाती है। जिस घर साफ-सफाई होती है, वहां लक्ष्मी का वास होता है। देवी लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने के लिए घर के आसपास किसी भी मंदिर में तीन झाड़ू रख आएं। यह पुराने समय से चली आ रही परंपरा है। पुराने समय में लोग अक्सर मंदिरों में झाड़ू दान किया करते थे।
ध्यान रखें ये बातें:
– मंदिर में झाड़ू सुबह ब्रह्म मुहूर्त में रखना चाहिए।

– यह काम किसी विशेष दिन करना चाहिए। विशेष दिन जैसे कोई त्यौहार, ज्योतिष के शुभ योग या शुक्रवार को।

– इस काम को बिना किसी को बताए गुप्त रूप से करना चाहिए। शास्त्रों में गुप्त दान का विशेष महत्व बताया गया है।
– जिस दिन यह काम करना हो, उसके एक दिन पहले ही बाजार से 3 झाड़ू खरीदकर ले आना चाहिए।

नकारात्मक ऊर्जा दूर करती है झाड़ू
यदि गंदगी, धूल-मिट्टी, मकड़ी के जाले आदि साफ नहीं किए जाएंगे तो घर का वातावरण नकारात्मक हो जाता है। झाड़ू से ही गंदगी दूर की जाती है और इससे घर का वातावरण सकारात्मक होता है। नकारात्मक वातावरण में रहने वाले लोगों के विचार भी नकारात्मक हो सकते हैं, जिसका सीधा असर घर की आर्थिक स्थिति पर होता है। घर में साफ-सफाई रखेंगे तो स्वत: ही इन बातों से छुटकारा मिल जाता है और देवी-देवताओं की कृपा प्राप्त होती है।
– शास्त्रों में झाड़ू को देवी लक्ष्मी का रूप माना गया है, अत: किसी भी प्रकार से इसका अनादर नहीं होना चाहिए। घर में यदि झाड़ू सबके सामने रखी जाती है तो कई बार अन्य लोगों के पैर उस पर लगते हैं जो कि अशुभ है। इसी वजह से झाड़ू को किसी स्थान पर छिपाकर रखना चाहिए।
– झाड़ू को दरवाजे के पीछे रखना काफी शुभ माना गया है।
– झाड़ू को कभी भी खड़ी करके नहीं रखना चाहिए। यह अपशकुन माना गया है।
– आज भी अधिकांश बुजूर्ग लोग झाड़ू पर पैर लगने के बाद क्षमा याचना करते हुए उसे प्रणाम करते हैं।हम जब भी किसी नए घर में प्रवेश करें, उस समय नई झाड़ू लेकर ही घर के अंदर जाना चाहिए। यह शुभ शकुन माना जाता है। इससे नए घर में सुख-समृद्धि और बरकत बनी रहेगी।

– यदि घर में कोई छोटा बच्चा है और वो अचानक झाड़ू निकलने लगे तो समझना चाहिए कि आपके यहां कोई मेहमान आने वाला है।
– हमेशा ध्यान रखें कि ठीक सूर्यास्त के समय झाड़ू नहीं निकालना चाहिए। यह अपशकुन है।
– झाड़ू को कभी भी घर से बाहर या छत पर नहीं रखना चाहिए। यह अशुभ माना जाता है। ऐसा करने पर आपके घर में चोरी होने का भय बना रहता है।झाड़ू से जुड़ी परंपराएं- महालक्ष्मी कृपा के लिए 3 झाड़ू किसी मंदिर में रख आएं 
कभी भी गाय या अन्य जानवर को झाड़ू से नहीं मारना चाहिए। यह भयंकर अपशकुन माना गया है।

– कोई भी सदस्य किसी खास कार्य के लिए घर से निकला हो तो उसके जाने के तुरंत बाद घर में झाड़ू नहीं लगाना चाहिए। ऐसा करने पर उस व्यक्ति को असफलता का सामना करना पड़ सकता है।

– झाड़ू को भोजन कक्ष में या जहां हम खाना खाते हैं वहां नहीं रखना चाहिए। भोजन के स्थान पर यदि झाड़ू रखी जाएगी तो झाड़ू में लगी धूल-मिट्टी के कारण हमें स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां हो सकती हैं।झाड़ू से जुड़ी परंपराएं- महालक्ष्मी कृपा के लिए 3 झाड़ू किसी मंदिर में रख आएं

झाड़ू को कभी भी बिस्तर पर नहीं रखना चाहिए
बिस्तर पर झाड़ू रखना, अपशकुन माना जाता है। किसी भी स्थिति में बिस्तर पर झाड़ू नहीं रखनी चाहिए। इस अपशकुन के कारण घर में अलक्ष्मी का आगमन होता है या लक्ष्मी रूठ जाती है।
इसके पीछे वैज्ञानिक कारण यह है कि झाड़ू से हम साफ-सफाई करते हैं तो उसमें धूल, कचरा और कई हानिकारक कीटाणु चिपके रहते हैं। ऐसे में यदि झाड़ू बिस्तर पर रखी जाएगी तो बिस्तर पर धूल और हानिकारक कीटाणु आ जाएंगे। इस वजह से स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां हो सकती हैं। कई लोगों को धूल-मिट्टी से सर्दी-जुकाम की समस्या तुरंत ही हो जाती है। इस वजह से बिस्तर पर झाड़ू नहीं रखना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here