सड़कें बनी तलाब आठ घंटे बारिश

0
16
जालंधर । शनिवार का दिन था। सभी सरकारी दफ्तर बंद थे। मुलाजिम अपने-अपने घरों में। सुबह नौ बजे से कुछ पहले बारिश आ गई। गई भी तो शाम पांच बजे के बाद। बीच में कुछ देर के लिए ‘लंच ब्रेक’ भी हुआ। इस बारिश ने शहर की सड़कों को तालाब बना दिया। गड्ढे और बड़े हो गए। जहां मिट्टी डाली गई थी, वो धुल गई। इस बारिश ने अधिकतम और न्यूनतम तापमान को बेहद करीब ला दिया। ऊपर २७.२ तो नीचे २५.१ डिग्री सेल्सियस। मौसम वैज्ञानिक कह रहे हैं- रविवार को भी ऐसी ही बारिश हो सकती है। छुट्टी उस दिन भी तो रहती है…आठ घंटे बारिश; गड्ढे हुए और भी खतरनाक, सड़कें बनी तलाब
दिनभर की बारिश के कारण स्टेशन पर जीआरपी थाने के साथ बने बैरक में  पानी घुस गया। मेस भी लबालब हो गया। बर्तन बह गए। खाना खराब हो गया। बाहर का मौसम ऐसा कि कहीं जा नहीं सकते। पुलिसवाले बारिश के पानी से भरे कमरे में बेड लगाकर सो गए। और करते भी क्या…?

यह शास्त्री चौक से मनी ढाबे की ओर जाती सड़क है। एक मर्सिडीज तेज गति से आ रही थी। अचानक ड्राइवर ने ब्रेक लगाया। सामने गड्ढा देखकर। शनिवार की बारिश के कारण सड़क धंसने से यह गड्ढा बन गया। चालक गड्ढे के बगल से कटकर निकल गया।
हाईवे पर डेढ़ फुट पानी
जालंधर त्न बीएसएफ चौक से लेकर पीएपी चौक की तरफ जाने वाली सड़क पर एक से डेढ़ फुट तक पानी भर गया। ट्रैफिक रेंगता रहा। जाम लग गया। बीएसएफ चौक से चौगिट्टी चौक तक पहुंचने में 50 मिनट लगे। कई वाहन लाडो वाली रोड से गुरुनानक पुरा रोड की तरफ से हाईवे पर पहुंचे। सूर्य एन्क्लेव और गुरु गोबिंद सिंह एवेन्यू के लोग हाईवे पर चढऩे की बजाय गुरु नानकपुरा और आसपास के इलाके की गलियों से होकर गुरुनानक पुरा की मुख्य रोड पर आए। इस सड़क पर भी पानी भरा होने के कारण लोगों ने रांग साइड गाडिय़ां दौड़ाईं और साथ ही रेलवे रोड की तरफ से गाडिय़ां निकाली।
पानी में रास्ता तलाशते रहे
जालंधर त्न कचहरी चौक और लाडोवाली रोड पर भी पानी भरा होने के कारण लोगों को अर्जुन नगर और राजिंदर नगर की तरफ से होकर आना पड़ा। नकोदर चौक पर पानी होने के कारण मखदूमपुरा और उधम सिंह नगर में लोग रास्ते तलाशते रहे। अर्बन एस्टेट फेज-1 में भी पानी भरा। बस्ती पीरदाद और बस्ती बावा खेल रोड पर भी लोगों को मोहल्ले के बीच से होकर रास्ता तलाशना पड़ा। पूरे शहर में सड़कों पर भरे पानी के बीच रास्ता तलाशकर लोग आते-जाते दिखे। घर से थोड़ी दूर जाने के लिए भी पानी पार करना पड़ा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here