कम होती बेरोजगारी पर ओबामा ने अपनी पीठ थपथपाई

0
12
वाशिंगटन। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव से पहले प्रतिद्वंद्वी मिट रोमनी की बढ़ती लोकप्रियता व उनके द्वारा लगाए आरोपों पर बराक ओबामा ने देश में कम होती बेरोजगारी पर अपनी पीठ थपथपाई है। ओबामा ने कहा कि देश प्रगति के पथ पर आगे बढ़ रहा है। राष्ट्रपति ओबामा ने कहा कि उनके कार्यभार संभालने के बाद से देश में बेरोजगारी दर अभी सबसे न्यूनतम स्तर पर है। यह अमेरिकी युवाओं के लिए बड़े संतोष की बात है।
ओबामा की टिप्पणी ऐसे समय पर आई है, जब नवीनतम आकड़ों के अनुसार सितंबर के दौरान अमेरिका में बेरोजगारी दर घटकर 7.8 फीसद रह गई है, यह 2009 के बाद सबसे कम है। चुनाव के सिलसिले में ओहियो में आयोजित एक बैठक में ओबामा ने कहा कि आज मेरा मानना है कि एक देश के तौर पर हम आगे बढ़ रहे हैं।
अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव की पहली बहस में बढ़ती बेरोजगारी दर को लेकर विपक्ष के निशाने पर आए राष्ट्रपति बराक ओबामा को श्रम साख्यिकी ब्यूरो की नवीनतम रिपोर्ट से काफी राहत मिली है। चुनाव से करीब एक महीने पहले जारी आंकड़ों के मुताबिक सितंबर के दौरान अमेरिका में बेरोजगारी दर घटकर 7.8 प्रतिशत रह गई है, जो कि जनवरी, 2009 के बाद सबसे कम है। बेरोजगारी दर में कमी को ओबामा के लिए अच्छी खबर माना जा रहा है।
टीवी पर पहली चुनावी बहस में अपने रिपब्लिकन प्रतिद्वंद्वी मिट रोमनी से पिछड़ने के बाद ये खबर उनके चुनावी अभियान में उत्साह का संचार करेगी। छह नवंबर को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में अमेरिकी अर्थव्यवस्था एक बड़ा मुद्दा है। ओहियो में आम जनसभा को संबोधित करने के दौरान ओबामा ने कहा,’ जब मैंने पदभार संभाला था तब हर महीने आठ लाख नौकरियां कम हो रही थी। मगर पिछले ढाई साल में हमने 52 लाख से अधिक रोजगार के अवसर पैदा किए।’ पिछले महीने अमेरिका में बेरोजगारी दर 7.8 रही। इस दौरान एक लाख 14 हजार नौकरियां पैदा की गई। इस साल के शुरुआती आठ महीनों में बेरोजगारी दर 8.1 से 8.3 के बीच बनी हुई थी।
ओबामा ने कहा, ‘बेरोजगारी दर में आई गिरावट दिखाती है कि देश इतना आगे निकल चुका है कि वापस जाने का सवाल ही नहीं उठता। शुक्रवार को जारी आंकड़े हमें उत्साहित करते हैं।’ उन्होंने आरोप लगाया कि उनके प्रतिद्वंद्वी रोमनी उन नियमों को हटाना चाहते हैं जिसे उनके प्रशासन ने आर्थिक मंदी से उबरने के लिए लागू किए हैं।
अमेरिका को विकास की जरूरत: रोमनी
वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन उम्मीदवार मिट रोमनी ने आरोप लगाया है कि राष्ट्रपति बराक ओबामा की नीतियां देश की अर्थव्यवस्था को सुधारने में सक्षम नहीं हैं। उन्होंने कहा किअमेरिका को वास्तव में विकास की जरूरत है।
रोमनी ने कहा कि ओबामा की विफल नीतियों से अस्थिरता बढ़ रही है। 2.3 करोड़ लोग नौकरी के लिए संघर्ष कर रहे हैं। हर छह में एक अमेरिकी गरीबी में रह रहा है। जबकि चार करोड़ से ज्यादा लोग सरकारी खाद्य सहायता पर निर्भर हैं ताकि वह अपना और अपने परिवार का पेट पाल सकें। मैसाच्युसेट्स के पूर्व गवर्नर ने आरोप लगाया कि ओबामा के दूसरे कार्यकाल में कर और खर्च ज्यादा होंगे और उधारी बढ़ेगी। उन्होंने कहा, ‘मध्यम वर्ग के लिए मेरी योजना से सभी की आय बढ़ेगी और मेरे पहले कार्यकाल में एक करोड़ से ज्यादा नौकरियां पैदा होंगी।
डेनेवर में राष्ट्रपति चुनाव की पहली बहस में ओबामा अपनी नीतियों का बचाव नहीं कर पाए थे। वह कोई भी नया योजना नहीं बता पाए थे, जिससे अर्थव्यवस्था को पटरी पर कायम रखा जा सके।’ श्रम साख्यिकी ब्यूरो की नवीनतम रिपोर्ट के बारे में रोमनी ने कहा कि अगस्त के मुकाबले सितंबर में कुछ ही नौकरियां पैदा की गई। मगर ओबामा के राष्ट्रपति बनने के बाद से छह लाख विनिर्माण की नौकरियां कम हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here