जीवन मंत्र

महाभारत के योद्धा अर्जुन ने1साल तक यहां सीखाया था नृत्य, इस कारण बने थे किन्नर

महाभारत के योद्धा अर्जुन ने1साल तक यहां सीखाया था नृत्य, इस कारण बने थे किन्नरये बात पांडवों के वनवास के समय की है। एक बार अर्जुन वेद व्यास के पास गए और उनसे पूछा कि पांडवों को फिर से राज्य पाने के लिए क्या करना चाहिए। तब वेद व्यासजी ने कहा तुम्हे इंद्र से दिव्यअस्त्रों का ज्ञान लेना चाहिए, क्योंकि कौरवा पक्ष में द्रोणाचार्य और भीष्म जैसे महाबलि योद्धा हैं। मुनि की ये बात मानकर अर्जुन इंद्र लोक चले गए और इंद्र से आज्ञा लेकर वहां कई तरह की विद्याओं की शिक्षा लेने लगे। एक दिन जब चित्रसेन अर्जुन को संगीत और नृत्य की शिक्षा दे रहे थे, वहां पर इन्द्र की अप्सरा उर्वशी आई और अर्जुन पर मोहित हो गई।
अवसर पाकर उर्वशी ने अर्जुन से कहा, अर्जुन आपको देखकर मेरी काम-वासना जागृत हो गई है, इसलिए आप कृपया मेरे साथ विहार करके मेरी काम-वासना को शांत करें। उर्वशी के वचन सुनकर अर्जुन बोले, देवि हमारे पूर्वज ने आपसे विवाह करके हमारे वंश का गौरव बढ़ाया था। इसलिए पुरु वंश की जननी होने के नाते आप मेरी माता के तुल्य हैं। इसलिए मैं आपको प्रणाम करता हूं। अर्जुन की बातों से उर्वशी के मन में बड़ा क्षोभ उत्पन्न हुआ और उसने अर्जुन से कहा, तुमने नपुंसकों जैसे वचन कहे हैं, इसलिए मैं तुम्हें शाप देती हूँ कि तुम एक वर्ष तक पुंसत्वहीन रहोगे।इतना कहकर उर्वशी वहां से चली गई। जब इंद्र को इस घटना के बारे में पता चला तो वे
अर्जुन से बोले, तुमने जो व्यवहार किया है, वह तुम्हारे योग्य ही था। उर्वशी का यह शाप भी
भगवान की इच्छा थी, यह शाप तुम्हारे अज्ञातवास के समय काम आयेगा। अपने एक वर्ष के अज्ञातवास के समय ही तुम पुंसत्वहीन रहोगे और अज्ञातवास पूर्ण होने पर तुम्हें पुनः पुंसत्व की प्राप्ति हो जाएगी। इस शाप के कारण ही अर्जुन एक वर्ष के अज्ञात वास के दौरान बृहन्नला बने थे। इस बृहन्नला के रूप में अर्जुन ने उत्तरा को एक वर्ष नृत्य सिखाया था। उत्तरा विराट नगर के राजा विराट की पुत्री थी। अज्ञातवास के बाद उत्तरा का विवाह अर्जुन के पुत्र अभिमन्यु से हुआ
Show More

Pradeshik Jan Samachar

प्रादेशिक जन समाचार स्वतंत्र पत्रकारिता के लिए मध्यप्रदेश का सबसे बड़ा मंच है। यहां विभिन्न समाचार पत्रों/टीवी चैनलों में कार्यरत पत्रकार अपनी महत्वपूर्ण खबरें प्रकाशन हेतु प्रेषित करते हैं ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close