MPखंडवा.

खंडवा में राहुल ने छोड़े चुनावी तीर, कहा- भाजपा के दावों का गुब्बारा फूटने की बात

खंडवा में राहुल ने छोड़े चुनावी तीर, कहा- गुजरात मॉडल है चाय मॉडल

खंडवा. कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गुजरात मॉडल को चाय मॉडल करार दिया। गुरुवार दोपहर खंडवा में हुई चुनावी सभा में उन्होंने नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए कहा- जितनी जमीन पर उज्जैन बसा है, गुजरात में उतनी जमीन एक व्यक्ति को टॉफी या चाय के भाव में दे दी। इतना ही नहीं, समुद्र किनारे मुंबई जितनी जमीन मात्र 30 करोड़ रुपए में दे दी। खंडवा में राहुल ने छोड़े चुनावी तीर, कहा- गुजरात मॉडल है चाय मॉडल
 
वे दो हिंदुस्तान चाहते हैं, एक हिंदुस्तान पांच-छह उद्योगपतियों का और दूसरा गरीबों का। हम एक हिंदुस्तान में विश्वास रखते हैं। राहुल ने करीब 40 मिनट के भाषण में 25 मिनट कांग्रेस की उपलब्धियां और चुनाव बाद की प्राथमिकताएं बताई। 15 मिनट तक भाजपा और मोदी पर कटाक्ष किए। 
 
भाजपा के दावों का गुब्बारा फूटने की बात दोहराई। उन्होंने कहा- हमको गुस्सा नहीं आता। मेरा, सोनियाजी और प्रधानमंत्री जी का भाषण आपने सुना होगा। हम विपक्ष से भी बदतमीजी से बात नहीं करते। नरेंद्र मोदी का नाम लिए बगैर कहा उनके भाषण में गुस्सा रहता है। वे कांग्रेस को जड़ से मिटाने की बातें करते हैं, हम ऐसा नहीं कहते। उनके वरिष्ठ नेता आडवाणीजी हैं। उनका वे सम्मान नहीं करते हैं और अडानी को मुफ्त में जमीन दे देते हैं।
 
छत, इलाज और पेंशन की गारंटी
 
राहुल गांधी ने तीन बातों पर लोगों का ध्यान दिलाया। उन्होंने कहा देश में हर व्यक्तिको पक्की छत दी जाएगी। स्वास्थ्य कानून बनाकर इलाज और दवाएं देंगे और बुजुर्गों को पेंशन की गारंटी देंगे।
 
घड़ी-जूतों पर लिखा होगा मेड इन मध्यप्रदेश
 
राहुल ने कहा कि गुजरात में नौकरी के 27 हजार पद खाली हैं। दलित, आदिवासी और अल्पसंख्यकों पर ध्यान नहीं दिया गया। गुजरात और मध्यप्रदेश में सरकार ने लोगों को रोजगार नहीं दिया। हम चाहते हैं मोबाइल, घड़ी, जूते, टी-शर्ट पर मेड इन चाइना की जगह मेड इन मध्यप्रदेश, मेड इन खंडवा। हमने इंडस्ट्रियल कॉरिडोर तैयार किया है। जापान से पार्टनशिप की है। हजारों उद्योगों को हम लगाएंगे लेकिन जमीन मुफ्त में नहीं देंगे।
 
Show More

Pradeshik Jan Samachar

प्रादेशिक जन समाचार स्वतंत्र पत्रकारिता के लिए मध्यप्रदेश का सबसे बड़ा मंच है। यहां विभिन्न समाचार पत्रों/टीवी चैनलों में कार्यरत पत्रकार अपनी महत्वपूर्ण खबरें प्रकाशन हेतु प्रेषित करते हैं ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close