अपना MPक्राइम रिपोर्ट

ब्रह्मचारी मेरे संग करते आ रहे थे दुष्कर्म’!जब मैं 26 का था,

भोपाल। जिस ब्रह्मचारी के आगे हजारों लोग श्रद्धा से झुक जाते हैं, वे मंगलवार जब महिला थाने में बयान के लिए लाए गए, तब उनके चेहरे का रंग उड़ा हुआ था। तेजस्वी सूरत मुरझाई हुई थी। देर रात तक पुलिस की पूछताछ के कारण थकावट और टेंशन पूरी बॉडी में स्पष्ट दिखाई पड़ रही थी। सोमवार को महर्षि महेश योगी विश्वविद्यालय के कुलाधिपति गिरीश वर्मा को मजिस्ट्रेट वर्षा शर्मा की कोर्ट में पेश किया गया था, जहां से उन्हें 1 जनवरी तक के लिए पुलिस रिमांड पर भेजा गया है।
         गिरीश वर्मा को जहांगीराबाद थाने में रखा गया है। यहां सोमवार करीब 1 बजे तक पुलिस उनसे पूछताछ करती रही। सुबह करीब 11.00  बजे के बीच उन्हें बयान के लिए महिला थाने लाया गया। इस दौरान गिरीश वर्मा नींद पूरी न होने के कारण बेहद थके हुए नजर आ रहे थे। इससे पहले उन पर यौन शोषण का आरोप लगाने वालीं महिला भी बयान देने पहुंची थी। उधर, गिरीश वर्मा ने पुलिस को अल्टीमेटम दिया है कि उनसे पूछताछ जल्द कर ली जाए, क्योंकि वे बुधवार से मौन व्रत पर जा रहे हैं।अपने संस्थान की एक शिक्षिका से दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार महर्षि महेश योगी विश्वविद्यालय के कुलाधिपति गिरीश वर्मा को राजधानी की जिला अदालत ने सोमवार को एक जनवरी तक पुलिस रिमांड पर भेजा है। पुलिस ने दुष्कर्म में उपयोग में लाई गई ऑडी कार और वर्मा का पासपोर्ट जब्त कर लिया है। सोमवार को दोपहर कड़ी सुरक्षा में गिरीश वर्मा को जिला अदालत में पेश किया गया था। उन्हें देखने के लिए कोर्ट परिसर में भीड़ जमा थी। मजिस्ट्रेट वर्षा शर्मा की कोर्ट में आरोपी के साथ महिला थाना पुलिस ने केस डायरी पेश की। पुलिस ने कोर्ट को बताया कि गिरीश वर्मा से अपराध में उपयोग की गई ऑडी कार और पासपोर्ट जब्त किया जाना था। वर्मा के वकील ने कोर्ट को बताया था कि पुलिस कार को जब चाहे तब संस्थान से जब्त कर सकती है। यदि कोर्ट निर्देश देगा तो गिरीश वर्मा भारत छोड़कर नहीं जाएंगे।कोर्ट ने कहा कि केस डायरी में इस बात का जिक्र है कि दुष्कर्म ऑडी क्यू-7 कार नंबर एचआर 61-7011 में किया था। कोर्ट ने यह कहते हुए पुलिस रिमांड दिया कि अभियुक्त को कोई शारीरिक और मानसिक प्रताडऩा न दी जाए। उन्हें रिमांड समाप्त होने पर एक जनवरी की शाम चार बजे तक अदालत में पेश करें।

ऐसे आलीशान महलनुमा कोठी में रहते है गिरीश वर्माः 

गिरीश वर्मा का महलनुमा कोठी दस एकड़ में फैली है। पहले यह पांच एकड़ में बनी थी। इसमें एक गार्डन है जिसमें जयपुर से मंगाया हुआ सफेद मार्बल का फव्वारा लगा हुआ है। तकरीबन 11 हजार स्क्वायर फुट में बनी हुई कोठी में दो फ्लोर है। दोनों फ्लोर अपने आप में अलग है। गिरीश वर्मा ऊपर वाले फ्लोर में रहते है। इस कोठी में दोनों फ्लोर में ड्राइंग और डायनिंग रूम के अलावा चार कमरे है। ऊपर जाने के लिए एक लिफ्ट लगी हुई है। कोठी में ऊपरी ओर पीतल का कलश लगा हुआ है। अंदर गार्डन के आसपास हाथी सहित विभिन्न कलाकृति लगी हुई है। पूरी कोठी में सफेद मार्बल का काम हुआ है

पीडि़ता के पति ने भी लगाया दुराचार होने का आरोपः 

गिरीश वर्मा को सोमवार को जब अदालत में ले जाया गया था, वहां पर पीडि़ता के पति पहुंच गए। पीडि़ता के पति ने मीडिया के सामने इस बात का खुलासा किया कि गिरीश वर्मा ने उनके साथ भी दुराचार किया है। उन्होंने बताया कि जब वे 26 वर्ष के तब से श्री वर्मा ने उनके साथ लगातार दुराचार किया। उसके बाद उन्होंने वर्मा से दूरी बनाने के लिए कई प्रयास किए उनका कहना था कि वे भय वश ये बात किसी को नहीं बता पाए। उनका कहना है कि अब जब गिरीश वर्मा की करतूत सामने आई तो वे दुनिया को बताना चाहते है कि गिरीश वर्मा बहुत ही खराब व्यक्ति हैं।

         शिकायत के 280 दिन बाद हुई गिरफ्तारी: महर्षि महेश योगी वैदिक विश्वविद्यालय के कुलाधिपति गिरीश वर्मा को रविवार शाम (29 दिसंबर) पुलिस ने गिरफ्तार किया था। वर्मा को भोजपुर रोड स्थित ब्रिटिश पार्क कॉलोनी में उनके घर से गिरफ्तार किया गया था। उनके खिलाफ  महर्षि विद्या मंदिर की तत्कालीन शिक्षिका से दुष्कर्म तथा धमकी देने का मामला दर्ज किया गया है। पीडि़ता ने आरोप लगाया था कि वर्मा ने वर्ष 1998 से 2013 के बीच कई बार उसके साथ ज्यादती की थी। महिला थाने में इसकी शिकायत 24 मार्च, 2013 को की गई थी। इसके बाद बीते शुक्रवार (27 दिसंबर) को पहली बार वर्मा ने महिला थाने में आकर बयान दर्ज कराए थे। शिकायत के 280 दिन बाद अंतत 29 दिसंबर को उनकी गिरफ्तारी हुई। जहांगीराबाद पुलिस ने वर्मा की गिरफ्तारी के पहले मामले की जांच कर उनके  खिलाफ  धारा 376 तथा 506 के तहत मामला दर्ज कर लिया था। पुलिस ने सोमवार की सुबह वर्मा को अदालत में पेश किया, जहां से वर्मा को 1 जनवरी तक रिमांड पर भेज दिया गया।























वारंट के डर से थाने पहुंचे थे वर्मा: 10 दिसंबर को पुलिस ने वर्मा को बयान का नोटिस दिया था। उन्हें 12 दिसंबर को पेश होने के लिए कहा गया था। वर्मा विदेश में थे, उन्होंने पुलिस से संपर्क कर कहा कि वे 25 दिसंबर को पेश हो जाएंगे, लेकिन वे नहीं पहुंचे। इसके बाद महिला थाना प्रभारी रेणु वी मुराब ने उनसे फोन पर चेताया था कि यदि वे 27 दिसंबर तक पेश नहीं हुए तो उनके खिलाफ  वारंट जारी किया जाएगा। 
Show More

Pradeshik Jan Samachar

प्रादेशिक जन समाचार स्वतंत्र पत्रकारिता के लिए मध्यप्रदेश का सबसे बड़ा मंच है। यहां विभिन्न समाचार पत्रों/टीवी चैनलों में कार्यरत पत्रकार अपनी महत्वपूर्ण खबरें प्रकाशन हेतु प्रेषित करते हैं ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close