विदेशसमाचार

महिलाओं सैलानियों के लिए नर्क है भारत

न्यूयॉर्क. अमेरिकी छात्रा मिशेल क्रॉस की भारत में बिताए अनुभव की कहानी इंटरनेट पर बहुत ज्यादा पढ़ी जा रही है। क्रॉस ने अपने साथ हुई बीती हैवानियत की दास्तां दुनिया को बताई है जिसे सुनकर किसी के भी रौंगटे खड़े हो जाएं। 18 अगस्त को अपनी कहानी सीएनएन आईरिपोर्ट पर बताने के बाद से गुरुवार शाम चार बजे तक उनकी कहानी को करीब 10 लाख लोग पढ़ चुके हैं और 87 हजार लोगों ने इसे शेयर किया है। इस पर 1400 कमेंट भी आए हैं जिसमें लोग उनके प्रति सहानुभूति जता रहे हैं।
 
Imageयूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो की अमेरिकी स्टूडेंट मिशेल क्रॉस ने पिछले साल अध्ययन के लिए किए अपने भारत दौरे के बारे में भयानक सच का खुलासा किया है। इसमें उन्होंने अपने साथ हुए यौन शोषण का जिक्र किया है। वापस लौटने के कई महीनों बाद आज भी वह मेंटल  ट्रॉमा की स्थिति में हैं और इसके चलते उन्हें मेडिकल लीव लेनी पड़ी है। उनके साथ बस में छेड़छाड़, घूरे जाने और 48 घंटे में रेप की कोशिश हुई तब जाकर उन्होंने इसके बारे में बताया। 
 
इन सब घटनाओं से परेशान क्रॉस को स्टूडेंट काउंसलर ने पर्सनालिटी डिसऑर्डर की समस्या से ग्रस्त बताया और कुछ दवाइयां दीं जो उन्होंने नहीं लीं। इसके बाद उनके सार्वजनिक रूप से गिर जाने पर उनकी इच्छा के खिलाफ उन्हें दो दिनों के लिए मानसिक वार्ड में भर्ती करा दिया गया। यहां से उन्हें इस शर्त पर रिहा किया गया कि वह मेडिकल लीव लेकर अपनी मां के पास रहने जाएंगी। मां के पास जाकर क्रॉस ने अपनी दास्तां दुनिया को बताने की हिम्मत जुटाई है। फेयर स्किन और लाल बालों वाली क्रॉस ने अपनी कहानी को इंडियाः द स्टोरी यू नेवर वांटेड टू हियर नाम दिया है। उन्होंने अपनी कहानी को सीएनएन आईरिपोर्ट पर रोजचैस्म के नाम से पोस्ट किया है। भारत में आईरिपोर्ट ने दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींचा था जब दिल्ली में दामिनी गैंगरेप के बाद चार साल की लड़की रेप के बाद मर गई थी। भारत में इस कहानी को लोगों का समर्थन और सहानुभूति मिल रही है। हालांकि कुछ लोगों का कहना है कि इस घटना के आधार पर वह एक देश के व्यवहार का सरलीकरण नहीं कर सकते हैं। 
 
क्रॉस को थोड़ी हिन्दी बोलनी आती है। वे बताती हैं कि जब वह भारत आ रही थीं तो उन्हें लगा था कि वह यहां के माहौल से तालमेल बिठाने के लिए तैयार हैं। वह पहले भी भारत आ चुकी थीं। उन्हें पहले ही बता दिया गया था कि भारत में कपड़े सावधानी से पहनने हैं और रास्ते में किसी को देखकर मुस्कुराना नहीं है। भारत में दिसंबर 2012 को 23 साल की एक लड़की के साथ हुए गैंगरेप ने देश को झकझोर दिया था। इससे कुछ समय पहले ही क्रॉस अपने दोस्तों के साथ भारत से वापस अपने देश गई थीं। क्रॉस का कहना है कि इस घटना के बाद ही लोग उसके और दोस्तों के साथ बीती घटना को समझ सके। भारत में अब भी रेप और गैंगरेप के कई मामले आते जा रहे हैं। 
 
क्रॉस का कहना है कि लोग जब उनसे भारत में बीते समय के बारे में पूछते हैं तो वे दुविधा में पड़ जाती हैं। वे कहती हैं कि कुछ महीनों में हुए अनुभव को एक लाइन में बताना कठिन है। भारत एक आश्चर्यजनक देश है, लेकिन महिलाओं के लिए काफी खतरनाक। मैं कैसे भारत की सभ्यता को जानने के लिए बिताए गए तीन महीनों को जाहिर करूं। 
 
क्रॉस लिखती हैं जो उनसे भारत के बारे में पूछते हैं क्या वह उन्हें अपनी पहली रात के बारे में बताएं जो उन्होंने पुणे में गुजारी थी। यहां गणेश महोत्सव के दौरान क्रॉस और उनके दोस्तों ने डांस किया था। और जब अमेरिकी लड़कियां डांस करने लगीं तो महोत्सव थम सा गया था क्योंकि सब लोग उनके हर डांसिंग मूव को अपने कैमरे में रिकॉर्ड कर रहे थे। 
 क्या मैं बताऊं कि बाजार में खूबसूरत साड़ी खरीदने और मोलभाव करने के दौरान लड़के हमें घूर रहे थे और हमसे सट कर हमारे प्राइवेट पार्ट पर चिकोटी काट रहे थे। लोग जब मेरे खूबसूरत भारतीय फुटवियर के बारे में पूछते हैं तो क्या मैं उन्हें बताऊं कि इन्हें खरीदने के दौरान एक आदमी कम से कम 45 मिनट तक मुझे घूरता रहा जब तक मैं भरी भीड़ में उस पर चिल्लाई नहीं, उसने अपनी नजरें मुझसे नहीं हटाईं। 
 
क्रॉस बताती हैं कि बाजार से गुजरते हुए ऐसा लगता था कि लोग अपनी निगाहों से मेरे टुकड़े-टुकड़े कर देंगे। उनसे नजरें मिलाने की हिम्मत नहीं होती थी। वह कहती हैं कि उन्होंने खुद को ढका हुआ तो था लेकिन छिपा नहीं सकती थी। जहां से गुजरती थी लोग उनकी फोटो लेने लगते थे। क्रॉस कहती हैं कि ये कोई कह सकता कि भारत में उनकी कितनी फोटो होंगी। हो सकता है कि कई लोगों ने मेरी और मेरे दोस्तों की फोटो को इंटरनेट पर मोर्फ कर पोर्नोग्राफी वेबसाइट पर डाल दी हों।
 उन्होंने लिखा है कि इसके बाद वह पर्यटकों के स्वर्ग और महिलाओं के नर्क में रहीं। यहां उन्हें लोगों ने घूरा, पकड़ा और उनके साथ बदसुलूकी तक की। यह सब उनकी सोच से परे था। उन्हें लगा कि इससे भयानक उनके साथ कुछ नहीं हो सकता है लेकिन यह तो शुरुआत थी।
 Image
क्या मैं गोवा के खूबसूरत होटल में स्टाफ मेंबर के मेरी दोस्त को रेप करने की कोशिश के बारे में बताऊं या मेरी नींद के दौरान मुझ पर झुके हुए होटल स्टाफ मेंबर के बारे में बताऊं। क्या मैं क्रिसमस के दिन भीड़ भरी बस में एक आदमी के मेरे हस्तमैथुन करने के अनुभव के बारे में बताऊं जो मेरे दोस्तों या परिवार वालों ने कभी महसूस नहीं किया। यूनिवर्सिटी के एक प्रवक्ता ने इसकी पुष्टि की है कि क्रॉस वहां की स्टूडेंट हैं और वह उनकी मानसिक हालत पर कुछ नहीं बोलेंगे। उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी अपने स्टूडेंट का देश और विदेश दोनों जगहों पर ध्यान रखती है। क्रॉस का कहना है कि उन्होंने इस दौरे पर आए अपने प्रोफेसर्स को तब तक कुछ नहीं बताया जब तक कि स्थिति असहनीय नहीं हो गई। वह घटना थी 48 घंटे में दो बार रेप की कोशिश।
 
क्रॉस कहती हैं कि वह इस दौरे पर मेंटल ट्रॉमा में जाने वाली अकेली लड़की नहीं थीं। भारत से वापस आ चुकी हूं लेकिन आज भी उसी टाइम-जोन में फंसी हुई हूं। एक इंच भी आगे नहीं बढ़ सकी हूं। 
 
Show More

Pradeshik Jan Samachar

प्रादेशिक जन समाचार स्वतंत्र पत्रकारिता के लिए मध्यप्रदेश का सबसे बड़ा मंच है। यहां विभिन्न समाचार पत्रों/टीवी चैनलों में कार्यरत पत्रकार अपनी महत्वपूर्ण खबरें प्रकाशन हेतु प्रेषित करते हैं ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close